How to study for students

आज देश एवं समाज की परिस्थितियाँ बहुत बदल गईं हैं । आप पर पढ़ाई का बहुत दबाब है । आपके माता – पिता और शिक्षक आपसे बहुत बड़ी – बड़ी अपेक्षाएँ रखते हैं । यह प्रतियोगिता का युग है ।

जीवन के किसी भी क्षेत्र में सफलता के लिए प्रतियोगिता में सफल होना आवश्यक है । अत : आप सबसे यह अपेक्षा रहती है कि आप इतने मेधावी , प्रतिभाशाली और योग्य बनें कि प्रतियोगिता में सफलता प्राप्त करें ।

इसी दबाब के कारण आज आप बहुत मानसिक तनाव में रहते हैं और आपके मन में निराशा के विचार आने लगते हैं । कमजोर मनोबल के बच्चे आत्महत्या करने को उतारू हो जाते हैं ।

माता – पिता जहाँ अच्छी पढ़ाई और शिक्षा में ऊँची उपलब्धियों की प्राप्ति हेतु बच्चों को प्रोत्साहित करें , वहीं उन्हें धैर्य और साहस भी प्रदान करें ।

सफलता न मिलने पर उन्हें निराशा से बचाएँ , उनसे कहें कि इस प्रतियोगिता में इसलिए नहीं सफल हुए कि ईश्वर किसी और अच्छी ऊँची परीक्षा में उन्हें सफल बनाना चाहता है । बच्चों को अध्ययन में परिश्रम के साथ प्यार और धैर्य दिलाना भी आवश्यक है ।

How to study image

प्रतिस्पर्धा के इस युग में आपके अपने अंदर सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाना आवश्यक है । यहाँ हम उन वैज्ञानिक तकनीकों की चर्चा करेंगे जो आप में शैक्षणिक और प्रतियोगी परीक्षाओं में बहुत अच्छे अंक प्राप्त कराने में सहायता करेंगी ।

आप अनंत शक्तियों का भंडार हैं , लेकिन यह शक्तियाँ आपके अंदर प्रसुप्त अवस्था में रहती हैं । कुछ वैज्ञानिक तकनीकों के माध्यम से उन प्रसुप्त शक्तियों को जाग्रत करने में सफल हो सकते हैं ।

जैसे यदि किसी को पहलवान बनाना हो तो इसके लिए भोजन में घी , दूध , मेवों की भरपूर व्यवस्था हो और व्यायाम तथा कुश्ती के दाव – पेच सिखाने की सुविधा हो तो उसे पहलवान बनाया जा सकता है ।

इसी प्रकार आप बहुत प्रतिभाशाली और मेधावी बनने के लिए कुछ व्यायाम , भोजन तथा एक निश्चित जीवनचर्या का पालन करते हुए कुछ सरल – सरल प्रयोग करके यह उपलब्धियाँ हस्तगत कर सकते हैं , इसमें तनिक भी संदेह नहीं है ।

यदि आप इस विचार को भलीभाँति समझकर पढ़ लेंगे और उसी के अनुसार अपने अभ्यास प्रारंभ कर देंगे , तो आपका मेधावी एवं प्रतिभाशाली बन जाना सुनिश्चित है । एक बार अंदर सोई हुई शक्तियों का जागरण हो जाए तो आपकी उन्नति और सफलता को कोई रोक नहीं सकता । आइए , इन प्रयोगों पर विस्तार से चर्चा करें ।

How to study image

“जिसका बहुमत होता है , उसकी जीत होती है । बहती गंगा में यदि थोड़ा मैला पानी पड़ जाए तो उसकी गंदगी प्रभावशाली न होगी , पर यदि गंदे नाले में थोड़ा गंगाजल डाला जाए तो उसे पवित्र न बनाया जा सकेगा । इसी प्रकार यदि मन में अधिक समय तक बुरे विचार भरे रहेंगे तो थोड़ी देर , थोड़े से अच्छे विचारों को स्थान देने से भी कितना काम चलेगा ? उचित यही है कि हमारा अधिकांश समय इस प्रकार बीते जिससे उच्च भावनाएँ ही मनोभूमि में विचरण करती रहें ।”

Post Views: 161